Home Hindi news मृत्यु होने की सूचना आई, लेकिन शव नहीं आया 23 से...

मृत्यु होने की सूचना आई, लेकिन शव नहीं आया 23 से चल रही है शोक बैठक

838
0
jhunjhunu news in hindi

प्रदेश के शेखावाटी क्षेत्र के ज्यादातर लोगों खाड़ी देशों में काम करते है. जिनकी मारपीट और प्रताड़ना के वीडियो अक्सर वायरल होते रहते है. लेकिन अब चौंकाने वाला मामला सामने आया है. दुबई देश की प्राइवेट कंपनी मानवता को शर्मशार करते नजर आ रही है दुबई देश में काम कर रहे है झुंझुनूं जिले(jhunjhunu news in hindi) के बास कालियासर के निवासी एक युवक जिसकी 9 मार्च 2021 को मौत हो गई थी. परन्तु 23 दिन बीत चुके है लेकिन अभी तक दुबई सरकार न तो शव देने को तैयार और न ही परिवार को सहायता देने को तैयार. लेकिन अब परिजनों ने और ग्रामीणों ने तय किया है कि जब तक शव नहीं आएगा तक शोक बैठक जारी रखेंगे.

बास कालियासर के निवासी पन्नेसिंह की मृत्यु 9 मार्च 2021 को दुबई की एक प्राइवेट कम्पनी में काम करते वक्त हो गई. गांव के युवक शीशराम ने जानकारी दी कि पन्नेसिंह करीब दो—ढाई वर्षो से दुबई की एक प्राइवेट कंपनी अल बस्ती एंड मुक्था एलएलडी में काम करता था. जानकारी के मुताबिक पन्नेसिंह के बहुत कर्जा हो गया था. पन्नेसिंह के एक बेटा और दो बेटियां जिनकी शादी अभी कुछ सालों पहले ही की है. पन्नेसिंह के अचानक 9 मार्च को सीने में दर्द होने लगा.जिसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया. जहाँ पर इलाज के दौरान पन्नेसिंह की मृत्यु हो गई है.

कंपनी झूठी रिपोर्ट बनाकर जिमरदारियों से पीछा झूठा चाहती:- jhunjhunu news in hindi

ग्रामीण के युवक शीशराम ने बताया कि मृत्यु के बाद कंपनी को मानवता और संवेदनशीलता का परिचय देना चाहिए था. परन्तु ऐसा नहीं हुआ. वहाँ के अस्पताल ने कंपनी के आदेश पर रिपोर्ट में हेराफेरी की है पन्नेसिंह की मौत हार्ट अटैक से हुई है लेकिन वहा के अस्पताल और कंपनी ने कोविद की झूठी रिपोर्ट बना दी है. अगर पन्नेसिंह कोरोना पॉजिटिव था तो उनके साथियों का टेस्ट क्यों नहीं किया गया. इससे साफ होता है कि पन्नेसिंह की कोरोना रिपोर्ट झूठी बनवाई गई. कंपनी ने पन्नेसिंह की मौत पर कुछ नहीं कहा और शव देने को भी तैयार नहीं है यह सब करके कंपनी अपनी जिम्मेदारियों और खर्च से बचना चाहती है.

दुबई की प्राइवेट कंपनी खाना पूर्ति कर रही हैं:-


ग्रामीण के युवक शीशराम ने बताया कि दुबई की प्राइवेट कंपनी खाना पूर्ति करने की कोशिश कर रही है. परन्तु वे नहीं जानते है कि पन्नेसिंह को आखिरी बार देखने के लिए उसका परिवार किस प्रकार इंतजार कर रहे है ग्रामीण क्षेत्र में शोक बैठक 12 दिन की होतो है लेकिन शव के इंतजार में 23 दिनों हो चुके है लेकिन अभी तक परिवार वाले और ग्रामीण शव के इंतजार में शोक बैठक में है. कंपनी परिवारों वालों की भावनाओं के साथ में खेल रही है. परिजनों का रो-रो के बुरा हाल हो चूका है. लेकिन अभी तक शव कब आएगा इसकी कोई जानकारी नहीं है.

यह भी पढ़े :- रिश्ते में नाना लगने वाले ही व्यक्ति ने किया दुष्कर्म, परिवार ने इज्जत के डर से नहीं करवाई रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here