Home world news पेट्रोलियम कंपनियों की मनमानी नहीं रुक रही त्यौहार हुए फीके, Petrol...

पेट्रोलियम कंपनियों की मनमानी नहीं रुक रही त्यौहार हुए फीके, Petrol 113 रूपये के नजदीक

391
0
rajasthan news in hindi

Aaj ki taaja khabren:- अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम स्थिर होने के बावजूद देश में पेट्रोलियम कंपनियां अपनी मनमानी कर रही है. दीपावली से पहले पेट्रोल-डीजल(Petrol-diesel today price jaipur) की कीमतें लगातार बढ़ने से आम जनता का बजट बिगड़ रहा है. पिछले 22 दिन से डीजल-पेट्रोल-डीजल की कीमतों में एक बार फिर से वृद्धि का आलम शुरू हो गया है. आज यानि 15 अक्टूबर को भी पेट्रोल 37 पैसे प्रतिलीटर तो डीजल 38 पैसे प्रति लीटर बढ़ा. पेट्रोलियम कंपनियों की मनमानी से आमजनता के त्योहार फीके होते नजर आ रहे हैं.

राजधानी जयपुर में पेट्रोल 112 व डीजल 103 के पार :- petrol diesel today jaipur


तेल कम्पनियो की मनमानी के चलते राजधानी जयपुर में पेट्रोल 112 रूपये के पार पहुंच चूका है. आज 15 अक्टूबर को पेट्रोल 112 रुपए 28 पैसे प्रति लीटर और डीजल 103 रुपए 45 पैसे के अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच चूका है. पिछले 22 दिन में पेट्रोल 4 रुपए 15 पैसे प्रति लीटर और डीज़ल 5 रुपए 46 पैसे ऊपर चढ़ चुका है. वृद्धि का यह आलम ऐसा ही रहा तो जल्द ही पेट्रोल 115 रूपये पार कर देगा. अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत 80 डॉलर प्रति बैरल के मौजूदा स्थिर पर है ऐसी स्थिति में भी पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार इजाफा हो रहा है.

सूत्रों के मुताबिक, केंद्रीय सरकार और राज्य सरकार वैट के रूप में पिछले 18 महीने में कई बार वृद्धि कर चुके हैं. परन्तु राजस्थान सरकार ने पेट्रोल-डीजल में 2 फ़ीसदी की वैट में राहत प्रदान की थी. लेकिन यह राहत ‘ऊंट के मुंह में जीरे’ के समान रही. अब जनता उम्मीद कर रही हैं कि केंद्र सरकार सेंट्रल एक्साइज में कुछ राहत प्रदान करें जिससे पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कमी आए.
वही देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 105 रुपए 14 पैसे प्रति लीटर और डीजल 93 रुपए 87 पैसे प्रति लीटर की दर से बिक रहा है. कोलकाता में पेट्रोल के दाम 105 रुपए 76 पैसे प्रतिलीटर पहुंच चूका है.

यह भी पढ़े :- सेशंस कोर्ट ने जमानत याचिका की सुनवाई आगे बढ़ाई, 20 अक्टूबर तक रहना पड़ेगा आर्यन खान को जेल में

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here