Home Crime राजधानी जयपुर के इस इलाके में फिर लगाई गई धारा-144

राजधानी जयपुर के इस इलाके में फिर लगाई गई धारा-144

157
0
राजधानी जयपुर के इस इलाके में फिर लगाई गई धारा-144 | today jaipur news
today jaipur news: राजस्थान की राजधानी जयपुर एक बार फिर से धारा-144 की तहत में आ गई है. राजधानी जयपुर (Jaipur) के खाचरियावास हाउस परिसर क्षेत्र में पुलिस प्रशासन ने धारा 144 लागू कर दी है. खाचरियावास हाउस परिसर क्षेत्र में धारा-144 आगामी 28 दिसंबर तक के लिए लगाई गई है. इसके पीछे कारण आगामी दिनों में होने वाले कार्यक्रमों के दौरान जनशांति भंग होने की आशंका बताया गया है. सहायक पुलिस आयुक्त माणक चौक (उत्तर) ने मंगलवार को इस संबंध में आदेश जारी कर करके कहा कि क्षेत्र में 500 मीटर की परिधि में धारा-144 लागू रहेगी.

सहायक पुलिस आयुक्त मानक चौक ने दंड प्रक्रिया संहिता (धारा-144) का प्रयोग किया है और यह आदेश आगामी शाम 6 बजे (28 दिसंबर 2022) तक (धारा-144) में रहेगा। सहायक पुलिस आयुक्त मानक चौक डॉ. हेमंत जाखड़ ने बताया, कि इस दौरान कोई भी व्यक्ति इस क्षेत्र में कीर्तन, कव्वाली, प्रसादी और उदघाटन कार्यक्रम जैसे किसी भी प्रकार के कार्यक्रम का आयोजन नहीं करेगा।

इन बातों पर रहेगी पूरी पाबंदी

आदेश के मुताबिक इसकी अवहेलना करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने बताया कि खाचरियावास हाउस क्षेत्र में 500 मीटर की परिधि में 5 या 5 से अधिक व्यक्ति न तो एकत्रित होंगे और न एकत्रित होकर चलेंगे. न ही किसी प्रकार की नारेबाजी की इजाजत दी जाएगी. ज़ुलूस आदि भी नहीं निकाल सकेंगे. किसी प्रकार का कोई हथियार लेकर नहीं चलेंगे. किसी प्रकार का अवरोध या रोकाटोकी नहीं कर सकेंगे.

जयपुर में पिछले दिनों भी लगाई गई थी धारा-144 today jaipur news

यह आदेश राजकीय ड्यूटी पर कार्यरत अर्थात वास्तविक ड्यूटी को अंजाम देने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों पर लागू नहीं होगा. इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति या व्यक्तियों पर भारतीय दंड प्रक्रिया संहिता की धारा-188 के तहत अभियोग चलाया जाएगा. उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों भी जयपुर समेत बीकानेर और कोटा में शांतिभंग की आशंका के चलते धारा-144 लगाई गई थी. उस दौरान इन जिलों के साथ कई अन्य जिलों में भी धारा-144 को लंबी-लंबी अवधि के लिए लागू किया गया था. इस मसले को प्रदेश में खूब राजनीति गरमाई थी. बीजेपी ने जगह-जगह धारा-144 लगाने का विरोध जताया था. उस समय राजस्थान के कई शहरों में उपद्रव हो रहा था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here