Home Hindi news किसान : किसान और उपभोक्ता, दयनीय दशा और दिशा?

किसान : किसान और उपभोक्ता, दयनीय दशा और दिशा?

197
0
farmer-and-consumer-pathetic-condition-and-direction

किसान : भारत में किसान दिवस 23 दिसंबर को मनाया जाता है। यह दिन विशेष रूप से चौधरी चरण सिंह को मनाने के लिए चुना गया था, जो देश में किसानों के कल्याण के लिए काम करने वाले अग्रदूतों में से एक थे। किसान दिवस का इतिहास और इस दिन का महत्व सभी जानते है। तब देश का खाद्यान्न उत्पादन 1950 में पांच करोड़ टन था। जिसे कृषि क्षेत्र ने इस वर्ष तक 31 करोड़ टन से ऊपर ले जाने का अनूठा कारनामा किया है।

इस क्षेत्र को सलाम जिसने विशाल भारतीय आबादी को खिलाने के लिए 142 करोड़ टन को पार कर लिया है।142 करोड़ उपभोक्ताओं से साल के 365 दिन पेट की पूजा करवाने का यह अनूठा कार्य करने वाले ये सभी अन्नदाता ही नहीं, खाद्य सुरक्षा सेना के सम्मानित जवान हैं। किसान और उपभोक्ता के इस अटूट, अनोखे, जीवंत रिश्ते को समझना पूरे देश के उपभोक्ताओं के लिए जरूरी है।

इस खबर को भी देखें > Ravichandran Ashwin ने ढाका के शेर-ए-बंगाल स्टेडियम में गेंदाबाजी से कमाल किया?

कोरोना आपदा में देश की विकास दर कुछ समय के लिए 23 प्रतिशत के अंतर से गिरी तब कृषि क्षेत्र ने तीन प्रतिशत की विकास दर को ऑक्सीजन देने का काम किया। जिससे देश की गिरती अर्थव्यवस्था को पीछे हटने से बचाया। इसलिए यह भी समझना चाहिए कि ऐसा दैवीय कार्य कर रहे कृषि क्षेत्र के सामने क्या चुनौतियां हैं। farmer और खेतिहर मजदूर दो तरह के उत्पीड़न से पीड़ित और पीड़ित हैं, पहला जुल्म सुल्तानी जुल्म है। सरकार की नीतियां और बाजार प्रथाओं का दमन। कृषि उपज के सस्ते दामों पर लूट के आदी बाजार ग्राहकों का दमन।

किसान (farmer) का पहला प्रमाण

कृषि क्षेत्र ने उत्पादन में छह गुना से अधिक की वृद्धि की, लेकिन उसे क्या मिला। स्वतंत्रता के समय सकल घरेलू उत्पाद में कृषि क्षेत्र का योगदान, जो 52 प्रतिशत था। सापेक्ष मूल्य में लगभग 15-16 प्रतिशत तक लाया गया है। देश की आधी से अधिक आबादी कृषि में लगी हुई है। लेकिन केवल 15-16 प्रतिशत को ही उनके काम और उद्यमिता के लिए मुआवजा दिया जाता है। प्रथम पंचवर्षीय योजना में वर्ष 1951-56 में सरकार द्वारा नियोजित अर्थव्यवस्था में कृषि क्षेत्र को लगभग 15 प्रतिशत हिस्सा दिया जाता था। जो लगातार गिर रहा था, अब इसे घटाकर तीन से पांच प्रतिशत कर दिया गया है। यानी तीन से पांच गुना की गिरावट, यह इस बात का एक और प्रमाण है, कि कृषि क्षेत्र के हाथों कर्जमाफी का झुनझुना थोपा गया है।

किसान का पिछले 7 साल में 11 लाख करोड़ रुपये का कर्ज माफ किया गया

यह माफी मुख्य रूप से व्यापार क्षेत्र के लिए 28 प्रतिशत और उद्योग क्षेत्र के लिए 65 प्रतिशत बहाल की गई थी। देश का अन्नदाता कृषि क्षेत्र में मात्र 7 प्रतिशत आया उपभोक्ताओं को यह समझना चाहिए। कि आपकी बैंक बचत और आम आदमी के टैक्स का पैसा किस पर खर्च किया जा रहा है। मुट्ठी भर लूट कर चुटकी भर छूट देने की नीतियाँ बनाने वाली सरकारें और उन्हें लागू करने वाली नौकरशाही तथा कर्मचारियों का दमन भी पराजित होने वाला है।

गुमराह करने वाले राजनेता भी पीछे नहीं हैं। फिर भी कृषि उपज के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) निर्धारित करने की प्रक्रिया में, खेती की लागत की गणना करते समय कई छिपी हुई लागत वाली वस्तुओं को चालाकी से बाहर कर दिया जाता है, और एक सटीक, पूर्ण, सर्व-समावेशी और लाभकारी मूल्य मिलता है। निर्धारित नहीं है।

इस पोस्ट को भी देखें > A beautiful and cheap hill station in India

कई कृषि विश्वविद्यालयों सरकारी संस्थानों विशेषज्ञों और स्वामीनाथन आयोग ने सरकार को साफ-साफ कह दिया है। कि किसानों की वास्तविक उत्पादन लागत एमएसपी का डेढ़ गुना है। इस मूल लागत के डेढ़ गुना पर 50 प्रतिशत मुनाफा जोड़कर एमएसपी की गणना की गई है, ताकि किसान को इतना मूल्य मिले, लेकिन वर्तमान स्थिति इसके विपरीत है। दूसरा जुल्म आसमानी जुल्म है। किसान पहले भी आसमान की मनमानी सहते थे। लेकिन वैश्विक जलवायु परिवर्तन के संकट के चलते अब यह पहलू हर साल बढ़ता जा रहा है।

भारतीय उष्णकटिबंधीय मौसम विज्ञान संस्थान

पिछले 30 वर्षों में, आजादी के बाद के पहले साठ 60 वर्षों (1950 से 2011) की तुलना में कुछ राज्यों में कृषि विनाश में 41 प्रतिशत, पचास प्रतिशत की वृद्धि हुई है। अब तक इसमें इजाफा हुआ है, यानी अब हर दो साल में एक साल प्रतिकूल मौसम रहता है। प्रिय उपभोक्ताओं, ऐसे कगार पर खड़े अन्नदाता का महत्व और विनाशकारी स्थिति जानिए।

पिछले 40 वर्षों के हमारे कार्य और चिंतन से प्राप्त परिणाम इस प्रकार हैं-

1. की नीतियों के कारण चलाए जा रहे आर्थिक चक्र के इस अन्यायपूर्ण आंदोलन की दिशा पर अनुकूल प्रभाव और परिवर्तन होना आवश्यक है। राज्य सरकार और आर्थिक शक्ति – तुरंत दिखने वाली आतिशबाजी का भ्रम नहीं।

2. खेतों के बाहर इन नीतिगत बदलावों के अलावा अंदर खेती की तकनीक और तरीकों में भी बदलाव होना चाहिए। मोनोक्रॉपिंग के बजाय, बहु-फसल वाली टिकाऊ पारिस्थितिक खेती सही दिशा है। यह पूरी विधि पिछले 15 वर्षों से आज भी लगातार वैज्ञानिक तथ्यों, आँकड़ों और प्रदर्शनों द्वारा सिद्ध होती रही है। देखने के लिए खुला आमंत्रण। हरित क्रांति से आगे बढ़कर अब यह सदा-हरित क्रांति की दिशा और पद्धति है।

3. कृषि नीतियों और तकनीकों को पाँच सिद्धांतों – उत्पादकता, लाभप्रदता, स्थिरता, स्थिरता और जीवन की गुणवत्ता द्वारा निर्देशित करने की आवश्यकता है।

याद रखें कि खेती की व्यवस्था ऐसी होनी चाहिए कि सभी को हमेशा के लिए जहर मुक्त और स्वस्थ भोजन मिले। उपभोक्ता की संवेदनशीलता से उत्पादक अन्नदाता की परिस्थितियों को समझें और दोनों कंधे से कंधा मिलाकर चलें। इस प्रकार दोनों की भलाई में ही दोनों की भलाई है। मैं निर्माता किसान उत्पादक और उपभोक्ता उपभोक्ता के नए गहरे अर्थ के साथ ‘उपभोक्ता’ की अवधारणा को एक साथ पेश कर रहा हूं। विकास के कई वैश्विक संकेतकों (मानव विकास, भूख-कुपोषण, स्वास्थ्य, खुशहाली) में भारत सबसे निचले पायदान पर है। इन सूचकांकों से उपभोक्ता का हित भी जुड़ा होता है। उपभोक्ता का हर नोट एक वोट है। यह शक्ति किसान के सशक्तिकरण में योगदान देगी। आप एक फैमिली डॉक्टर हैं, उसी तरह आपको भी अपना फैमिली किसान होना चाहिए।

सारांश

  • कोरोना के महासंकट में देश की विकास दर कुछ समय के लिए 23 प्रतिशत के अंतर में गिरी, फिर कृषि क्षेत्र ने तीन प्रतिशत की विकास दर को ऑक्सीजन देने का काम किया। देश की गिरती अर्थव्यवस्था को गोद में लोटने से बचाया।
  • किसान दिवस या राष्ट्रीय किसान दिवस भारत में 23 दिसंबर को और संयुक्त राज्य अमेरिका में 12 अक्टूबर को मनाया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here