Home Hindi news pooja singh: ठाकुरजी के साथ 7 फेरे लिए, लोगों ने उड़ाया मजाक,...

pooja singh: ठाकुरजी के साथ 7 फेरे लिए, लोगों ने उड़ाया मजाक, पिता शादी में शामिल नहीं हुए?

315
0
pooja-singh-took-7-rounds-with-thakurji-people-made-fun-of-him-father-did-not-attend-the-wedding

pooja singh : 30 साल की पूजा सिंह का विवाह गांव के मंदिर में विराजमान भगवान ठाकुरजी से हुआ। यह शादी 8 दिसंबर को हुई थी। शादी के बाद पूजा अपने घर और ठाकुरजी के मंदिर में रहती है। पूजा सुबह उनके लिए भोग तैयार करती है और उन्हें ले जाती है। उनके लिए कपड़े बनाता है और शाम को दर्शन के लिए जाता है। पूजा की कुंडली में कोई दोष नहीं है और न ही उन्होंने कोई इच्छा मांगी है। फिर pooja singh ने शादी क्यों की?

जयपुर के गोविंदगढ़ के पास नरसिंहपुरा गांव में pooja singh की अनोखी शादी हुई.

1.शादी में 300 लोग मौजूद थे।

2.दुल्हन के हाथों में मेहंदी लगी हुई थी।

3.माला हुई, फेरे हुए

4.कन्यादान और विदाई भी हुई।

5.बस एक ही बात निराली थी.. दूल्हा

बचपन से पति-पत्नी के झगड़े देखे हैं।

मेरी उम्र 30 वर्ष है। आमतौर पर लड़कियों की शादी 20 से 25 साल की उम्र में कर दी जाती है। मेरे घर में भी इसकी महक आने लगी थी। रिश्ते अक्सर आते थे। लोग मेरे माता-पिता से कहने लगे कि अब अपनी बेटी की शादी कर दो, लेकिन मेरा मन इसके लिए तैयार नहीं था। मैंने बचपन से देखा है कि पति-पत्नी के बीच छोटी-छोटी बातों पर झगड़े होते रहते थे, झगड़ों में उनकी जिंदगी खराब हो जाती थी और महिलाओं को इसमें बहुत बुरी स्थिति का सामना करना पड़ता था। बड़ी होकर मैंने तय कर लिया था कि मैं शादी नहीं करूंगी।

इस खबर को भी देखें > aaj ki news: शरमन दंपति के हत्यारे का पता लगाने वाले को 35 मिलियन अमेरिकी डॉलर 289 करोड़ रुपये का इनाम देने की घोषणा की है।

शादी के लिए आए हर रिश्ते को ठुकराया

कॉलेज करने के ठीक बाद मेरे लिए रिश्ते आने शुरू हो गए। यहां तक कि मां-बाप भी अपने जान-पहचान वालों को कहते थे। कि कोई अच्छा लड़का हो तो उसके बारे में बता देना। घर में ऐसी बातें होने लगीं कि बेटी है, बड़ी हो गई, कब तक कुँवारी रखोगे। अब शादी कर लो, मुझे इन बातों की चिंता सताने लगी। मैंने अपने माता-पिता से कहा था कि मुझे शादी नहीं करनी है, लेकिन यह इतना आसान नहीं था। कहते थे कि तुम्हारी शादी की उम्र हो गई है, अब तुम्हें शादी करनी है। बीच-बीच में कुछ लड़के भी देखने आ गए, एक-दो बार रिश्ता किसी तरह टल गया, लेकिन जब लड़के बार-बार देखने आने लगे तो आखिर मैंने देखने आने वालों को हाथ जोड़कर मना कर दिया और अपनी इच्छा बताई .

तुलसी विवाह की बात सुनने के बाद लिया फैसला

मैंने तुलसी विवाह के बारे में सुना था। एक बार अपने नाना के घर में भी देखा था। सोचा कि जब ठाकुरजी तुलसीजी से विवाह कर सकते हैं. तो मैं ठाकुरजी से विवाह क्यों नहीं कर सकती मैंने पंडित जी से इस बारे में पूछा तो उन्होंने भी कहा कि ऐसा हो सकता है। इसके बाद मां से बात की तो पहले तो उन्होंने कहा कि ऐसा कैसे हो सकता है, लेकिन फिर मान गईं। हमने पापा को बताया तो वो भड़क गए और साफ मना कर दिया। नाराजगी के चलते पिता इस शादी में भी नहीं आए।

लोगों ने मेरा मजाक बनाया, लेकिन मैंने भगवान को अपना पति मान लिया। ‘कई लोगों ने सपोर्ट किया और कई लोगों ने मेरा मजाक भी उड़ाया। लेकिन मुझे उनकी चिंता नहीं है. दो साल से मैं ये शादी करना चाहती थी। लेकिन फाइनली अब हो गई है। मैंने भगवान को अपना पति बनाया है। लोग कहते थे कि शादी होना लड़की के लिए सौभाग्य की बात है। परमात्मा अमर है, इसलिए मैं भी सदा के लिए सुखी हो गया हूं।

पापा शादी में नहीं आए, यह दुख की बात है।

30 की पूजा सिंह पॉलिटिकल साइंस में एमए हैं। पिता प्रेम सिंह बीएसएफ से सेवानिवृत्त हैं और m.p में सुरक्षा एजेंसी चलाते हैं। मां रतन कंवर गृहिणी हैं। तीन छोटे भाई अंशुमन सिंह, युवराज और शिवराज हैं। तीनों कॉलेज और स्कूल में पढ़ रहे हैं। ठाकुरजी से विवाह करना उसका अपना निर्णय था। इस पर शुरू में समाज, रिश्तेदार और परिवार के लोग राजी नहीं हुए, लेकिन फिर मां ने बेटी की इच्छा का सम्मान करते हुए। जरूर हामी भर दी. पापा न पहले राजी थे और न आज। इसलिए शादी में भी नहीं आए। मां ने ही सारी रस्में पूरी कीं।

जब pooja singh से इस तरह शादी के बारे में पूछा तो बोलते-बोलते उनकी आंखों में आंसू भर आए। उसने कहा, मुझे इस बात का बहुत दुख है कि पापा नहीं आए, लेकिन मैं इस शादी से बहुत खुश हूं। क्योंकि मैंने घर, परिवार और समाज में जो देखा है। उसके बाद मैं कभी शादी नहीं करना चाहती थी। लेकिन जब लोगों ने मुझे ताना देना शुरू किया, तो मैं कोई भी कुंवारी नहीं। इसलिए मैंने यह फैसला लिया है।

दोस्त भी शामिल हुए

pooja singh की शादी में उनके दोस्त और रिश्तेदार भी शामिल हुए थे। करीब तीन सौ लोगों के लिए खाना बनाया गया था। इसमें करीब तीन लाख रुपए खर्च किए गए। शादी की रस्मों के दौरान हल्दी लगाने से लेकर मेहंदी लगाने तक की रस्में धूमधाम से की गईं। दोस्तों ने पूजा को सजाया। उन्होंने अपने दोस्तों के साथ डांस भी किया। घर में प्रतिदिन मंगल गीत गाए जाते थे।

स्वयं चन्दन से भरा हुआ माँग

परंपरा के अनुसार दूल्हा दुल्हन की मांग में सिंदूर भरता है, लेकिन इस शादी में यह परंपरा भी कुछ अलग तरीके से हुई। ठाकुर जी की ओर से पूजा सिंह ने स्वयं अपनी मांग भरी। ठाकुरजी को सिंदूर से ज्यादा चंदन पसंद है, इसलिए पूजा सिंह ने भी उनकी मांग सिंदूर की जगह चंदन से भर दी।

शादी की सारी रस्में निभाईं, मां ने किया कन्यादान

पूजा सिंह और ठाकुरजी का यह विवाह पूरे रीति-रिवाजों के अनुसार हुआ। गणेश पूजन से लेकर चाकभात, मेहंदी, महिला संगीत और फेरे तक की रस्में हुईं। ठाकुरजी को दूल्हा बनाकर गांव के मंदिर से पूजा सिंह के घर लाया गया। मंत्रोच्चारण किया गया और मंगल गीत गाए गए। पिता के नहीं आने पर मां ने बहू को घेरे में बैठा लिया, इसके बाद विदाई दी गई। कन्यादान और जौहरी के लिए परिवार की ओर से 11000 रुपए दिए गए। ठाकुर जी को गद्दी और वस्त्र दिया गया।

pooja singh अब जमीन पर सोती है, रोज खाना बनाती है

पूजा सिंह बताती हैं। कि अब मुझे कोई ताने नहीं मार सकता कि इतनी बड़ी होकर भी कुंवारी बैठी है। मैंने भगवान को अपना पति बनाया है। शादी के बाद ठाकुरजी मंदिर लौट आए हैं, जबकि पूजा अपने घर पर ही रहती है। पूजा ने अपने कमरे में एक छोटा सा मंदिर बना रखा है, जिसमें ठाकुर जी का वास है। वह अब उनके सामने जमीन पर सोती है। वह रोज सुबह सात बजे भोग बनाकर मंदिर में विराजमान ठाकुरजी के पास ले जाती हैं। जिसे मंदिर के पुजारी भगवान को चढ़ाते हैं। इसी तरह वह शाम को भी मंदिर जाती हैं।

pooja singh Narsinghpura Village शादी के बाद इमोशनल

यह शादी न सिर्फ परंपराओं से जुड़ी थी बल्कि इसमें भावुकता भी थी। फेरे के बाद विदाई समारोह भी हुआ, हालांकि pooja singh को अपने घर पर ही रहना था, लेकिन इस समारोह के दौरान पूजा सिंह की आंखों में आंसू थे। शादी में मौजूद अन्य लोग भी भावुक हो गए। पूजा अपने घर की दहलीज पर चीट कर चली गई। बाद में ठाकुरजी को मंदिर में पुन स्थापित कर दिया गया।

इस पोस्ट को भी देखें >Jhumki temple Earrings design

लोगों ने मेरा मजाक भी उड़ाया, लेकिन मेने परवाह नहीं की

ऐसा नहीं है कि पूजा सिंह के इस फैसले और इस शादी को सभी ने खुशी-खुशी मान लिया है. कई लोगों ने इसका विरोध भी किया। शादी के बाद भी कई लोग पूजा का मजाक उड़ाते रहे, लेकिन उसने परवाह नहीं की। उनका कहना है, कि उन्होंने दूसरों की शादीशुदा जिंदगी में जो देखा है, उससे यह फैसला लिया है। अब मेरा मन शांत रहता है। जहां तक पिता की नाराजगी की बात है तो मैं उन्हें भी मना लूंगी । संगीत में मेरी रुचि है, अब मैं इस क्षेत्र में आगे बढ़ूंगी ।

यह विवाह धार्मिक रूप से मान्य है।

आचार्य राकेश कुमार शास्त्री ने बताया कि कन्या का विवाह भगवान विष्णु शालिग्राम जी के साथ शास्त्रानुकूल होता है। यह ठीक उसी तरह है जैसे वृंदा तुलसी ने भगवान विष्णु का आशीर्वाद पाने के लिए ठाकुरजी से विवाह किया था। ऐसी शादियां पहले भी हो चुकी हैं। कर्मठगुरु ग्रंथ के पृष्ठ संख्या 75 पर इसका विवरण दिया गया है। विष्णु कन्या का विवाह भगवान से करा सकते हैं। तुलसी विवाह भी इसी प्रकार का एक पर्यायवाची है

1. भगवान विष्णु की पत्नी का नाम क्या है।

उतर – पुराणानुसार विष्णु की पत्नी लक्ष्मी हैं। लेकिन वर्तमान में राजस्थान के जयपुर जिले के गोविंदगढ़ कस्बे की पूजा सिंह (pooja singh) नाम की लड़की ने हिंदू रीति-रिवाजों से हटकर ठाकुरजी की मूर्ति से शादी कर ली है। और पूजा सिंह की यह अनोखी शादी पूरे राज्य में चर्चा का विषय बन गई है। और सोशल मीडिया पर छा गई है।

2.विष्णु भगवान की पत्नी वर्तमान में कौन है।

उतर- राजस्थान के जयपुर जिले की पूजा सिंह pooja singh, दिनांक (8 दिसंबर 2022) को शादी हुई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here