Home covid-19 coronavirus : भारत में फिर से लागू हो सकते हैं, कोरोना के...

coronavirus : भारत में फिर से लागू हो सकते हैं, कोरोना के खौफ से ये नियम

178
0
coronavirus-these-rules-may-be-implemented-again-in-india-due-to-the-fear-of-corona

coronavirus : दुनिया एक बार फिर कोरोना की नई लहर से हिल गई है। चीन, जापान, ब्राजील, अमेरिका समेत कई देशों में संक्रमण तेजी से फैलना शुरू हो गया है। अकेले चीन में अगले तीन महीनों के भीतर 80 करोड़ से अधिक लोगों के संक्रमण से प्रभावित होने की आशंका है। जबकि दस लाख से अधिक लोगों के मरने की आशंका है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, अगले तीन महीने के अंदर दुनिया के 10 फीसदी से ज्यादा लोग संक्रमण की चपेट में आ सकते हैं।

ऐसे में भारत के अंदर भी coronaviru का खतरा बढ़ गया है। दुनियाभर में बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार हरकत में आ गई है। कहा जा रहा है, कि अगले कुछ दिनों में सरकार फिर से कुछ नियम लागू कर सकती है, जिनका पालन करना सभी के लिए अनिवार्य होगा। कि कोरोना से बचाव के लिए सरकार ने क्या-क्या तैयारियां की हैं।

coronavirus सरकार कौन से नियम लागू कर सकती है?

इसे समझने के लिए हमने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी से बात की। उन्होंने कहा, अब हम कोरोना की हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं। भारत में अभी ज्यादा खतरा नहीं है, लेकिन फिर भी हमें एहतियात के तौर पर हर तरह की सावधानियां बरतनी चाहिए। इसे देखते हुए हम कोविड प्रोटोकॉल को फिर से लागू करने पर विचार कर रहे हैं।

सार्वजनिक जगहों पर दोबारा मास्क पहनना अनिवार्य

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सार्वजनिक जगहों पर दोबारा मास्क पहनना अनिवार्य किया जा सकता है। खासकर उनके लिए जिनमें कोरोना के लक्षण हैं। मसलन खांसी, जुकाम या किसी तरह के वायरल बीमार होने पर लोगों को मास्क पहनना अनिवार्य होगा।

अब सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का करना होगा पालन

coronaviru कोरोना के घटते मामलों के बाद लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना भी बंद कर दिया था. अब एक बार फिर इसे सख्ती से लागू किया जा सकता है।

एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर रैंडम टेस्टिंग शुरू हो सकती है।

दिल्ली, मुंबई समेत सभी बड़े एयरपोर्ट पर रैंडम कोरोना टेस्टिंग की प्रक्रिया शुरू हो सकती है। खासकर उन लोगों की जांच पर फोकस रहेगा जो कोरोना प्रभावित देशों से लौट रहे हैं। ऐसे लोगों की जांच की जाएगी और उनमें संक्रमण पाए जाने पर जीनोम सीक्वेंसिंग की जाएगी और कोविड के अन्य प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा। इसी तरह रेलवे स्टेशनों और बस स्टैंडों पर भी रैंडम टेस्टिंग शुरू करने की तैयारी है।

बढ़ेगी बूस्टर डोज

अब तक 23 करोड़ से ज्यादा लोगों को कोरोना वैक्सीन का बूस्टर डोज दिया जा चुका है। अब सरकार इसकी संख्या तेजी से बढ़ाने पर फोकस कर रही है। ज्यादा से ज्यादा लोगों को बूस्टर डोज मिल सके, इसकी व्यवस्था की जाएगी।

इस खबर को भी देखें > aaj ke samachar राजस्थान में साधु की हत्या: नदी किनारे मिला कंबल में लिपटा शव और मचा हड़कंप

जीनोम सीक्वेंसिंग शुरू देश की कई लैब में जीनोम सीक्वेंसिंग की प्रक्रिया फिर से शुरू कर दी गई है। संक्रमण का कोई नया वैरिएंट तो नहीं आया है, इसकी जांच के लिए यहां कोरोना मरीजों के सैंपल लाए जाते हैं। ताकि समय पर बचाव के लिए कदम उठाए जा सकें।

टेस्टिंग, ट्रेसिंग और इलाज पर फोकस

भारत में कोरोना के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए सरकार ने टेस्टिंग, ट्रेसिंग और इलाज के फॉर्मूले पर फोकस करने का फैसला किया है। इसके मुताबिक ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच की जाएगी और अगर कोई कोरोना संक्रमित पाया जाता है तो उसके संपर्क में आए ज्यादातर लोगों की जांच की जाएगी। साथ ही कोरोना मरीजों का समय पर इलाज भी हो सकेगा।

भारत में coronaviru का अब क्या हाल है?

हर दिन सबसे ज्यादा मरीज मिलने की लिस्ट में भारत 51वें नंबर पर है। यहां मंगलवार को तीन नए संक्रमित मिले, जबकि कोई नई मौत नहीं हुई। भारत में अब तक (4.46) करोड़ लोग infection की चपेट में आ चुके हैं। इनमें से (4.41) करोड़ से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। जबकि 5.30 लाख मरीजों की मौत हो चुकी है। भारत में अभी 4,527 मरीज ऐसे हैं, जिनका इलाज चल रहा है। सक्रिय मामलों के मामले में भारत इस समय दुनिया में 90वें स्थान पर है।

इस पोस्ट को भी देखें > History of Akshardham Temple Jaipur

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here